सुन ले ओह सुन ले सुनले ओह सुनले



एचटीएमएल ट्यूटोरियल

सुनले ओ सुनले – भजन के शब्द सुनें

सुनो अरे सुनो
बजरंगी सत्संगी,
मैं तुम्हारे माध्यम से आया हूँ,
प्रिय माँ अंजनी,
मैं तुम्हारे माध्यम से आया हूँ,
प्रिय माँ अंजनी,
सुनो सुनो..

पंक्तियाँ- भोले ओ भोले.

आप समस्त लोकों के दाता हैं,
मैं एक गरीब भिखारी हूँ,
तुम सबके दुःख दूर करते हो,
अब मेरी बारी है
सबकी नैया पार करो,
नाथ खिव्या बनकर,
हमेशा समर्थन,
मैं तुम्हारे माध्यम से आया हूँ,
प्रिय माँ अंजनी,
सुनो सुनो..

तुम्हारा नाम सुनकर,
मैं तुम्हारे पास आया
मैंने पूरी दुनिया देखी है,
तुम्हें कोई नहीं पा सकता
दर्द दूर करो, हे दर्द,
हे जगवंदन, बंधन काट दो।
केसरी राज दुलारे,
मैं तुम्हारे माध्यम से आया हूँ,
प्रिय माँ अंजनी,
सुनो सुनो..

आपके अलावा, दाता,
मेरा कोई नहीं
हे राम के प्रिय!
मेरे पास केवल आपका सहारा है,
दुनिया में तुम्हारा मज़ाक उड़ाया जाएगा,
अगर मेरी जिंदगी ख़राब हो जाये,
मैं तुम्हारे पास आया हूँ,
मैं तुम्हारे माध्यम से आया हूँ,
प्रिय माँ अंजनी,
सुनो सुनो..

सुनो अरे सुनो
बजरंगी सत्संगी,
मैं तुम्हारे माध्यम से आया हूँ,
प्रिय माँ अंजनी,
मैं तुम्हारे माध्यम से आया हूँ,
प्रिय माँ अंजनी,
सुनो सुनो..

स्वस्थ हँसी ओह स्वस्थ हँसी

सुन ले ओ सुन ले सुनले ओ सुनले - भजन के बोल
सुन ले ओ सुन ले सुनले ओ सुनले – भजन के बोल

स्वस्थ हंसी ओह स्वस्थ हंसी,
बजरंगी सत्संगी,
मैं तुमसे दूर आ गया
प्रिय माँ अंजनी,
मैं तुमसे दूर आ गया
प्रिय माँ अंजनी,
स्वस्थ हँसी ओह स्वस्थ हँसी।

तरज – नादान ओ नादान।

आपने मुझे अपना सारा जीवन दिया,
दार का हूँ मैं भिखारी,
तुम सबको हराओगे,
अब मेरी बारी है
मुझे भी जोड़ लो, तुम सबके दुश्मन हो,
नाथ गाने से रोककर,
हमेशा दें और समर्थन करें,
मैं तुमसे दूर आ गया
प्रिय माँ अंजनी,
स्वस्थ हँसी ओह स्वस्थ हँसी।

सुंकर नाम है तुम्हारा,
आप मुख्य द्वार पर आये हैं,
पूरी दुनिया को देखो
तुमसा ना कोई पाया,
क्या दर्द का दरवाज़ा तोड़ने का दर्द है,
हे जगवंदन, कैसा बंधन है!
केसरी राज दुलारे,
मैं तुमसे दूर आ गया
प्रिय माँ अंजनी,
स्वस्थ हँसी ओह स्वस्थ हँसी।

देने वाला तुम्हारे सिवा,
मुझे कोई नहीं चाहता
हे रात के प्रिये,
मुझे तुमसे आशा है,
मैं अंदर ही अंदर हंसूंगा,
अगर तुम मेरे नहीं बनना चाहते,
यह आपके लिए मुख्य द्वार है,
मैं तुमसे दूर आ गया
प्रिय माँ अंजनी,
स्वस्थ हँसी ओह स्वस्थ हँसी।

स्वस्थ हंसी ओह स्वस्थ हंसी,
बजरंगी सत्संगी,
मैं तुमसे दूर आ गया
प्रिय माँ अंजनी,
मैं तुमसे दूर आ गया
प्रिय माँ अंजनी,
स्वस्थ हँसी ओह स्वस्थ हँसी।

स्वस्थ हँसी ओह स्वस्थ हँसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *